घर विच मैया तेरा जगन रचाया है

घर विच मैया तेरा जगन रचाया है
सूची ज्योति दा परवेश कराया है,
आजा सुते हुए भागा नु जगा दे दातिये,
ज्योत चो दर्श दिखा दे दातिये माँ

भगता ने दर तेरे रोनका लगाईया ने
ख़ुशी विच सब सहनु दें वधाईया ने
नाले ढोल बजाऊंदे नाले भंगडे ने पौंदे
लांदे तेरे ही नाम दे जयकारे दातिये,
ज्योत चो दर्श दिखा दे दातिये माँ

भगत ध्यानु वांगु माँ नु मनौना ऐ,
अज मैया नु आपा घर च बुलाना ऐ,
सुमित भेटा गावे नाम मैया दा ध्यावे
कहंदा रख ली तू ब्चेया दी लाज दातिये,
ज्योत चो दर्श दिखा दे दातिये माँ

सोहने तेरे भवन दी शान निराली ऐ,
घर विच आई साडे माँ शेरावाली ऐ
शंकर कर ले दीदार मैया होऊ गी दयाल
अज रज रज दर्शन पा ले दाती दे
ज्योत चो दर्श दिखा दे दातिये माँ