माँ करुना का भंडार

माँ करुना का भंडार माँ तेरी जय जय कार,
मेरी विनती करो सवीकार माँ सुन लो मेरी पुकार

माँ आंबे माँ जगदम्बे माँ दुर्गा आध भवानी
हर भगतो की माँ रक्शा करती बन के जग कल्याणी
अपनी शरण में लेकर माँ श्रृष्टि करे उदाहर
मेरी विनती करो सवीकार माँ सुन लो मेरी पुकार

नो रूप है माँ तेरी तू है अष्टम माँ गोरी
हर रूप शक्ति धारी माता मैं पाल पुजारी
जग्जनी माँ आदि शक्ति दया करो इक बार
मेरी विनती करो सवीकार माँ सुन लो मेरी पुकार