केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा

केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा
इक घर रब्ब दा ते दूजा घर यार दा

पहले रब्ब वल जावां के मैं यार वल जावां

यार वल जावां ते ओह सीधे मुँह बुलाउंदा नहीं
रब्ब वल जावां ते ओह सामने वी औंदा नहीं
दोवां विच कोई मैनु डोबदा ना तारदा
इक घर रब्ब दा ते दूजा घर यार दा
केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा

कदी रब्ब दे घर वल नज़र मारां
कदी यार दे घर वल तकदा वां
दर रब्ब दा वी खुल्ला
बुहा यार दा वी खुल्ला, केहड़े दर .....

मेरी अक़्ल केहन्दी मैं रब्ब वल जावां
मेरा इश्क़ केहड़ा मैं यार वल जावां
केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा ...

रब्ब वी नहीं बोल्दा ते यार वी नहीं बोल्दा
दूर दूर रह के मेरी जिंद पया रोल्डा
प्यार पाके रहा हाँ मैं आर दा ना पार दा
केहड़े घर .....
केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा


यार नू वी इंज ते आखिर ता नी छाड़िये  
रेहँदी सी ओह जेहड़ी, तक़दीर कर छड़ी ए
केहड़े कोलों माँगन दारू दिल दे करार दा
केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा

यार वल जावां ते ओह सीधे मुँह बुलाउंदा नहीं
रब्ब वल जावां ते ओह सामने वी औंदा नहीं
दोवां विच कोई मैनु डोबदा ना तारदा

एहो दिल कहंदा पहले जावां घर रब्ब दे
'सादिका' ओह बन्दे ने कम जिथे सब दे
फेर आके बुहा खडकावां दिलदार दा
केहड़े कोलों माँगन दारू दिल दे करार दा
केहड़े घर जावां एहो खड़ा मैं विचारदा

श्रेणी
download bhajan lyrics (118 downloads)