लाख लाख सुकर तेरा

सब तो बड़ी दात तेरी तू अपने चरनी लाया
तेरा मैं गुणगान करा इस काबिल मेनू बनाया
सीधे रस्ते पाया मेनू हथ फड के मेरा
लख लख शुकर तेरा दातिये लख लख शुकर तेरा

मिटटी दे इस पुतले विच जान दातिये पाई
दे जगह चरना विच तू पहचान मेरी एह बनाई
केहड़ी केहड़ी रेहमत दा बखान मैं करा
लख लख शुकर तेरा दातिये लख लख शुकर तेरा

भवना दे विच रेहन वालिये कर दे दूर हनेरा,
चरना दे विच लावी सभ्नु कहे लाल माँ तेरा
कर किरपा माँ बचेया उते नही कोई होर मेरा
लख लख शुकर तेरा दातिये लख लख शुकर तेरा

बड़े बड़े अपराधी तर गे तेरा नाम ध्या के
भव सागर तो तर जांदे ने दर्शन तेरा पा के
कमल सोनू दी केहनदीऐ कर काशी ते मेहरा
download bhajan lyrics (178 downloads)