सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार

बोलो बोलो रे मिल के जय जय कार,
सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार,
बाला जी सा देव नही है इस दुनिया में दूजा
तीन लोक में बाबा जी की घर घर होती पूजा
रे बैठा रे बैठा सालासर दरबार
सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार,

मैं तो इतना केहूनु से यु सोला आने सच्चा से,
इस धरती का जाने जाने बच्चा बच्चा से,
हो आजा आजा ने मत कर सोच विचार,
सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार,

बाला जी के दर से तेरे कभी दूर मत होना रे,
बाला जी के भगतो पे न चलता जादू टोना रे,
हो मेरे बाबा के खुले पड़े भंडार,
सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार,

कोई किसी को कुछ न देता इस झूठे संसार में
भीम सेन सब कुछ मिलता है बाबा के दरबार में,
के झुकता झुकता रे आके याहा संसार
सुनेगा बजरंगी फ़ौरन हमारी पुकार,