मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने

किती मेरे उते सुखा वाली छा ऐ घर खुशियाँ हजारा मेरे
मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने,
घर खुशियाँ हजारा मेरे टा ने मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने
किती मेरे उते सुखा वाली छा ऐ

हां दास निमाना औकात की मेरी एह माये सब किरपा तेरी,
वेहड़े रेहमता तू बरसाईया न जरा भी लाइ तेरी
कखो लख किता मिया जी दे ना ने
मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने
किती मेरे उते सुखा वाली छा ऐ

हर साह दे नाल नाम लवा गा तेरा सेवादार रहागा,
इक वारी नही लख वारि मैं तेरी जय जय कार करा गा,
चरना च दिति मेनू था ऐ,
मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने
किती मेरे उते सुखा वाली छा ऐ

किती विक्की दंड अरजोई पलईश् दे विच पूरी होई,
इस जग उते मेरिये अमिए तेरे वरगा होर न कोई
मेरी हां च मिलाई दाती हां ऐ,
मेरी मन ली मिनत मेरी माँ ने
किती मेरे उते सुखा वाली छा ऐ