जोगी रत्नों दा वस् दा शाह तलाइयाँ

वाल सुनेहरी हथ विच चिमटा कनी मुंद्रा पाइयां,
जोगी रत्नों दा वस् दा शाह तलाइयाँ,

जिथे जोगी कर्म कमावे वेहड़े बने लाउंदा,
जिहदे सिर ते हथ रख देवे मुहो मंगियाँ मुरादा पाउंदा
रंग एह्दे विच रंग जो एह ता करलो किर्त कमाईया,
जोगी रत्नों दा वस् दा शाह तलाइयाँ,

विच गुफा दे बेठा जोगी चार युगा दा वाली,
लेके आवे जो फर्यादा कदे न मुड दा खाली
जिसदी फड ले बाह जोगी फिर ओह दियां हों चडाईया,
जोगी रत्नों दा वस् दा शाह तलाइयाँ,

मोर दी करे सवारी ते रत्नों दी अख दी तारा
नूर चेहरे ते कुदरत दा है दिल कश अजब नजारा
औना है घर जोगी ने नवनीत ने पलका बिछाईया,
जोगी रत्नों दा वस् दा शाह तलाइयाँ,
download bhajan lyrics (36 downloads)