साईं साईं जपते जपते

साईं साईं जपते जपते मैं खुद साईं हो जाती हु
साईं से जो सिखा वो तुम्हे बताती हु
साईं साईं जपते जपते मैं खुद साईं हो जाती हु

देना हो तो दीजिये प्रेम दया दान में
पर्ब्दी में पड़ जाता है आदमी घुमान में
सत साईं रटते रटते साईं नाम जपते जपते मैं कमली हो जाती हु
साईं से जो सिखा वो तुम्हे बताती हु
साईं साईं जपते जपते मैं खुद साईं हो जाती हु

इक जगह से आये हो उतरे इक ही घाट पे,
हवा संसार की पट गए धर्म और जात पे
इक ही मालिक सब का इक हिमत बतलाती हु
साईं से जो सिखा वो तुम्हे बताती हु
साईं साईं जपते जपते मैं खुद साईं हो जाती हु

तू भी साईं मैं भी साईं जाने जानन हारा
साईं सागर तू है बूंद रूप वो तुम्हारा,
साईं जी का बन के प्यारा साईं में ही समाती हु
साईं से जो सिखा वो तुम्हे बताती हु
साईं साईं जपते जपते मैं खुद साईं हो जाती हु
श्रेणी
download bhajan lyrics (36 downloads)