सावन के महीने नील कंठ आउगा

सावन के महीने नील कंठ आउगा,
तेरा नाम लेके भोले डाक उठाऊ गा,
दुनिया की छोड़ कर भीड़ भाड़ ने तेरे दर का आके तेरा भोग लाउगा

तेरे दर पे आके भोले भांग में ले आऊंगा
लेके तेरी कुण्डी सोटा घोट घोट के पिलाउगा
यार मेरे ख़ास कती खड़े प्यार सेबाज बाज भोले बम बम गाऊगा,
सावन के महीने नील कंठ आउगा,


माथे तेरे चाँद सुनेहरा नाम तेरा बेगाम्बर धारी
जटा में तेरी खेले गंगागल में नाग ब्यंकर धारी
देवी देवता की लाग रही कतार से जित लार मंदी कटी धुमा उठाऊ गा,
सावन के महीने नील कंठ आउगा,

तेरे पीछे कितने वावले भोले तेरे भगत निराले
तेरे नाम से धुन है भज रही ये न देखे पाँव के छाले,
मने सुनी आस आरे पूरी हो जा से
तीर कहे मैं भी घंटा बाँध जाउगा
सावन के महीने नील कंठ आउगा,
श्रेणी
download bhajan lyrics (437 downloads)