एह भवन सुहाना ऐ विच मेरा साईं वसदा

एह भवन सुहाना ऐ विच मेरा साईं वसदा एह साईं दा ठिकाना है

एह साईं दियां संगता ने
साईं नु याद करो जे झोलियाँ भरनिया ने

साईं सब कुछ तक दा ऐ, असी भुला करदे हां
साईं आप ही ब्क्श्दा ऐ,

दिन खुशिया भर आये साईं मेरे कर किरपा दर तेरा फडेया ऐ

जो शिर्डी औंदा है मेरे साईं बाबा कोलो ओह ते सब कुछ पांदा है
श्रेणी