मैया मोरी जग मग ज्योत जले

मैया रानी तेरे दरबार में जग मग में ज्योत जले
हो मैया मोरी जग मग ज्योत जले

तू जन नी मैं बालक तेरा जन्मो जन्म का साथ रहे माँ
अपने अंचल की छईयां दे सिर पे सदा तेरा हाथ रहे माँ
जीवन के घने अंधियार में  जग मग ज्योत जले

पूत कुपूत है बहुत तेरे मात कुमात ना होती कभी माँ
धरती अमबर चाँद सितारे तेरी दया से रोशन माँ
स्वार्थ से परे तेरे प्यार में  जग मग ज्योत जले
download bhajan lyrics (404 downloads)