इज्जता दी रोटी तू ख्वावी साइयां

इज्जता दी रोटी तू ख्वावी साइयां,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,
खैर सदा रेहमता दी पावी साइयां,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,

दुनिया जहान विच एहो कुझ दबेया,
हसदे दे नाल एथे हर कोई हस्या,
रोंदेया नु इकला न रवावी साइयां,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,

हक ते हलाल वाली रुखी सुखी चंगी है,
तेरे तो हमेशा अस्सा एहो मंग मंगी आ,
पाप दी कमाई तो बचावी साइयां,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,

अपने पराये जेह्ड़े खुशियाँ दे साथी ने,
दुखा च लांबे ओही दिंदे दिन राती ने,
सुख दुःख विच तू निभाबी सैयां,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,

जिन्दगी ये साहणु दिति इज्जता दी सैयां,
मौत भी तू सहनु देवी इज्ज्ता दी सैयां,
बेडी साड़ी साहिला ते लावी साइयाँ,
किसे दा मोहताज न बनावी साइयां,
श्रेणी
download bhajan lyrics (15 downloads)