सैयां मैनु तू दिसदा

मेरे दिल दे विच रेहँदी तेरी सूरत सैयां मैनु तू दिसदा,
रब दिसदा है ऐसी तेरी मूरत सैयां मैनु तू दिसदा,

किवे तेरी महिमा दा करा मैं बखान वे,
शब्द न कॉल मेरे चले नाग वां वे,
हर शेह दे विच दिसे तेरी सूरत ,
सैयां मैनु तू दिसदा,

दिसदे ने लोकि एथे मतलभी सारे,
एहना नु ही खुश करके सैया असि हारे
हूँ लगदे ने एह बदसूरत सैयां मैनु तू दिसदा,

तकदे ही तनु सैया चैन मैनु मिलिया कहन्दे ने तू जांदा है हाल मेरे दिल दा,
कर फिर क्यों मैं अरजा गुजारा सैयां मैनु तू दिसदा,

पिता मेरा तू ही सैयां माँ भी मेरी तू है ,
आके तेरे चरना च मिलदा सकूँ है,
बिन तेरे हूँ हुँदा न गुजारा सैयां मैनु तू दिसदा,
श्रेणी