मेरे बांके बिहारी जी

ओ मेरे बांके बिहारी जी दर्शन दो दर्शन,
ओ मेरे कुञ्ज बिहारी जी दर्शन दो दर्शन
मुझको न तडपाओ दर्शन दो दर्शन

मेरे मन के द्वार खुले तेरे मंदिर में आ कर ,
मेरी किस्मत खुल गई है वृधावन को भा कर,
अब आस तुम्हारी जी,
ओ मेरे बांके बिहारी जी दर्शन दो दर्शन,

मैं जन्मो की प्यासी तेरे द्वारे आई हु,
कुक पास नही मेरे बस भाव ही लाई हु,
मेरे भाव को अप ना लो दर्शन दो दर्शन दो,
ओ मेरे बांके बिहारी जी दर्शन दो दर्शन,

करदो दया मोहन हम तेरे सहारे है हरिदास पुकारे है,
निधिवन में विराजे है,
दर्शन के प्यासे है ये नैन हमारे है,
ओ मेरे बांके बिहारी जी दर्शन दो दर्शन,
श्रेणी