साहनु फेर बुलाई असि आवा गे

तेरे रज रज दर्शन पावांगे,
साहनु फेर बुलाई असि आवा गे

महारानी दरबार सजा के विच पहाड़ा बैठी,
जेहड़ा आके शीश निभावे सब नु सब कुछ दींदी
भर भर पल्ले लावा गे
साहनु फेर बुलाई असि आवा गे

तेरे वाजो महारानी असि नहीं किसे तो मंगदे ,
तेरा दिता सब कुछ माता तेथो नहियो संगदे,
तेरा पल पल शुक्र मनावा गे ,
साहनु फेर बुलाई असि आवा गे

थोड़ी जाहि किरपा कर दाती भाव सिंधु तर जावा,
तेरियां भेटा ध्यानु वांगु दर तेरे ते गावा,
सागर कोलो लिखवा वा गे,
साहनु फेर बुलाई असि आवा गे
download bhajan lyrics (71 downloads)