होली आई होली आई होली आई रे

होली आई होली आई होली आई रे,
होली के दीवानो की है टोली आई रे,

इधर तो कान्हा के संग सरे ग्वाले बाले निकल ते,
उधर तो राधा के संग गोपियों के झुण्ड मचल ते,
पिचकारी मारे कान्हा जी गुलाल उड़ाते कान्हा जी ,
गोपियों गोप इक दूजे से मिल कर के होली खेल रहे,
होली आई होली आई होली आई रे,
होली के दीवानो की है टोली आई रे,

राधा जी का नाजी एक दूजे को रंग लगादे,
गोप गोपियाँ नाच नाच फागुन के गीत सुनाते,
जय राधे कृष्ण जय राधे मोहन,
होली की मस्ती छाई है रंग अभीर गुलाल उड़ाई है ,
होली आई होली आई होली आई रे,
होली के दीवानो की है टोली आई रे,
श्रेणी