रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है

फागुन का श्याम भगतो पे सरूर चढ़ा है,
रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है,
भगतो से मिलने बाबा भी त्यार खड़ा है,
रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है,

घर घर में होने लगी है तयारी,
बाबा से मिलने की छड़ी है खुमारी,
पैदल हम जाएंगे झूमे गायेगे भगतो का रेला त्यार खड़ा है,
रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है,

सझ धज के बैठा यु मुस्का रहा है,
काहे कन्हैया यु तड़पा रहा है,
तेरा इन्तजार है,
दिल ये बेकरार है,
सँवारे से मिलने का जनून चढ़ा है,
रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है,

बाबा के संग मिल के खेले गे होली,
भर भर पिचारी मारे भगतो की टोली,
चंग हम भजाएगे रंग भी लगाए गे,
श्याम रंग में रंग ने विकास खड़ा है,
रंग चढ़ा है रे श्याम रंग चढ़ा है,
download bhajan lyrics (210 downloads)