म्हापे जद भी मुसीबत

म्हापे जद भी मुसीबत कोई आवन लागे,
माहरे सिर के ऊपर चुनड़ी लेहरावण लागे,

जद नैया हिचकोले खावे माँ थारी चुनड़ी लहरावे,
अपने आप ही भवर में नैया चालन लागे,
माहरे सिर के ऊपर चुनड़ी लेहरावण लागे,

लाज भगत की जावन लागे,
चुनड़ी मैया की लेहरावण लागे,
थारी चुनड़ी माँ लाज ने बचावण लागे,
माहरे सिर के ऊपर चुनड़ी लेहरावण लागे,

जद जद माहरो मन गबराये माँ थारी चुनड़ी लहरावे,
हाथो हाथ ही यु बेटो मुश्कावन लागे,
माहरे सिर के ऊपर चुनड़ी लेहरावण लागे,

जद जद माइयाँ माँ सु रूठे वनवारी कुछ और न सूजे,
थारा बेटा थाने चुनड़ी उड़ावन लागे,
माहरे सिर के ऊपर चुनड़ी लेहरावण लागे,
download bhajan lyrics (18 downloads)