मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी

मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा,
माँ किरपा किती बड़ी बड़ी जी लख शुकाराना मैया दा,
मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा,

है जीना ते माँ दी किरपा जागे विच नची जांदे ने,
जो विछ्ड़े मेवे पौंदे ने दाती दा शुकर मनाऊंदे ने,
है सोहनी आ गई घड़ी घड़ी जी लख शुकराना मैया दा,
मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा,

भगतो माँ लारे नही लाउंदी एवे ही बुलेखा है,
कोई अज लेनदा को कल लेनदा करमा दा मिलदा लेखा है,
कोई गल न रेह्न्दी अड़ी अडी जी लख शुकराना मैया दा,
मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा

माँ बोल बोलके प्यारा दे माँ बदल देवे तकदीरा नु,
माँ ताले खोले किस्मत दे माँ कट दी कई जंजीरा नु,
मेहरा दी लावे झड़ी झड़ी लख शुकराना मैया दा,
मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा

मावा ता ठंडियाँ छावा ने माँ छावा करदी रेह्न्दी है,
सुलतान पूरी गुलशन लभ ले माँ दिल तेरे विच रेह्न्दी है,
झोली सी खाली सोनी दी माँ झंडेया वाली भरी भरी ,
मेनू नाम दी मस्ती चडी चडी जी लख शुकराना मैया दा
download bhajan lyrics (91 downloads)