मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां

मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां,
मिलाये गियो दो नैना मेरा दिल लै चलियाँ,
मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां

अखियो से अखियो में जादू एसो कर गयो,
चित को चुराए हुए जाने वो किधर गयो,
मैं घुंडा ना मिलिया मचाये गेयो खल वलीयां
मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां,

बाकी मुस्कान मेरे जिया रे में वस् गई,
तिर्शी नजर हाए दिल मेरा डस गई,
चीर दिल पे चलेया मचाये गेयो खल वलीयां
मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां,

घर से गई थी मैं तो यमुना के तट पे,
मुझे क्या पता था वो खड़ा है पनघट पे ,
वो छल गेयो वो छलियाँ मचाये गेयो खल वलीयां
मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां,

मिल जाए श्याम तो मैं अखियो भर लू,
मैं भी छल बलियाँ से मन सी कर लू,
जो मेरा बस चलेया,मचाये गेयो खल वलीयां
मोहन छलवलियां मचाये गेयो खल वलीयां,
श्रेणी
download bhajan lyrics (498 downloads)