विच जगराते दे तेरे भंगड़े पाउंदे माँ लाल

जो भी माँ दे दर ते झुक्दा होया माला माल,
विच जगराते दे तेरे भंगड़े पाउंदे माँ लाल
विच जगराते दे

झंडे हथ विच फड़के तेरियां भेटा गाउँदे माँ,
ढोल नगाड़े जो भजदे दर ते दिल नु बहुत ने पाउंदे,
आसा पूरियां कर दी सब दियां कैसी लीला कमाल,
विच जगराते दे तेरे भंगड़े पाउंदे माँ लाल

मोली बन के तिलक लगा के माँ दा नाम धाइये,
बैठ के ओहदे चरना विच ही दिल दा हाल सुनाइये,
दसने दी कदे लोड न पेंदी जाने सब दा हाल,
विच जगराते दे तेरे भंगड़े पाउंदे माँ लाल

सारी गल विश्वाश ते मुकदी जो भी चरनी जुड़ दा,
चिंता सारी मिट जंदी घरो भी कुछ न थुड़ दा
जसम भी आ गया भवाना ते पूरी श्रदा नाल
विच जगराते दे तेरे भंगड़े पाउंदे माँ लाल
download bhajan lyrics (247 downloads)