माँ असि ते दर तेरे रोज आइये

दर ते बुला के बचैया नु ना लारा लाया कर,
माँ असि ते दर तेरे रोज आइये कदे साढ़े घर भी आया कर,
सब दे दिला दियां जनन वालिये मेरी क्यों न जाने,
घर विच आजा मेरिये दातिए भावे किसे बहाने,
रुखा मीसा दिता जो भी भोग लगाया कर,
माँ असि ते दर तेरे रोज आइये कदे साढ़े घर भी आया कर,

बहुत हो गए लारे लपे मुकदी गल मुका दे,
बैठे हां असि अड़ के पाला खैरा झोली पा दे,
तरसे होये नैना दी माँ प्यास भुजाया कर,
माँ असि ते दर तेरे रोज आइये कदे साढ़े घर भी आया कर,

तेरे बाजो कोई न सदा गल सुन ले कण कर,
राधे ने तनु लेके जाना बह गया जिद कर के,
बचैया दे घर आउंदे होये ना शरमाया कर,
माँ असि ते दर तेरे रोज आइये कदे साढ़े घर भी आया कर,
download bhajan lyrics (10 downloads)