घर घर दे विच होवण एह जगराते मियां दे

शुरू हो गए आज नवराते मैया दे,
घर घर दे विच होवण एह जगराते मियां दे,

चावा नाल चड़ेया महीना माये सोन दा,
दिल विच तांग माये दर्शन पाउन दा,
चल मंदिरा नू भगता ने पाए मैया दे,
घर घर दे विच होवण एह जगराते मियां दे,

किरत कमाइयाँ विचो लंगर लगाए ने,
फूल कलियाँ दे नाल भवन सजाये ने,
भर लो झोलियाँ खुले ने खजाने मैया दे,
घर घर दे विच होवण एह जगराते मियां दे,

चढ़ दी सवाली तेरी जावा बलिहारी तो,
बिंदु तेरे दास नु चढ़ी तेरे नाम दी खुमारी माँ,
मूसेपुरिये दे नाल गुद्दे नाते मैया दे,
घर घर दे विच होवण एह जगराते मियां दे,