आज वंड ने खजाने महा माई

दिन आ गये ने नवरातेया दे शुरू होये चाले आ मियां दे भवन दे नजारे ही निराला आ,
चिन्तपूर्णी मिटावे हर चिंता नसीब सुते दिन्दी आ जगा,
आज वंड ने खजाने महा माई लो जी सारे झोलियाँ भरा,

बरसदी ए रेहमत मैया दे दर न्यारी आ,
तरस दी जह्नु दुनिया ए सारी है,
ओहदे ना दी जिह्ना ने खट्टी खट ली ओहना दे घर नफा ही नफा
आज वंड ने खजाने महा माई लो जी सारे झोलियाँ भरा,

अड़चन रिश्ते च जदो कोई आउंदी है धियाँ दी फिकर ता हर एक नु सताउंदी आ,
कई सूखा सुख होइया ने सोहागना भी आजो दर मेहन्दिया लगा,
आज वंड ने खजाने महा माई लो जी सारे झोलियाँ भरा,

आसा नु ही खैर जेवे नीत नु मुराद आ,
हुँदा है सवेरा जीवे नेहरिया तो बाद आ,
इको ज्योत सुख तेरे विश्वाश दी,
जो जिंदगी नु दिन्दी रुषना,
आज वंड ने खजाने महा माई लो जी सारे झोलियाँ भरा,
download bhajan lyrics (14 downloads)