मैं झूठा मेरे पाक पवित्र साई जी

मैं झूठा मेरे पाक पवित्र साई जी,
मैनु झूठे नु जरा सच दा पाठ पढ़ाई जी,
मैं झूठा मेरे पाक पवित्र साई जी
मेरे खाने दे विच अकल रता पाई जी,
मैं झूठा मेरे पाक पवित्र साई जी

मैं बेमानी दिया कितिया बहुत कमाइयाँ ने,
मैं बेमानी नाल ईजता बहुत बनाइया ने,
मेरे किरत दसा नोहा दी झोली पाई जी,
मैनु झूठे नु जरा सच दा पाठ पढ़ाई जी.....

मैं नित ही अवगुण कर भुला बक्शोंदा हां,
मैं सच्चा बनान दा नित ही ढ़ोग रचौंदा हां,
मेरे मन विचो एह महल झूठ दा ठाई जी,
मैनु झूठे नु जरा सच दा पाठ पढ़ाई जी,

मैं निंदिया चुगली करणो भी न हटदा हा,
मैं मोह माया दे जाल च नित ही फस्दा हां,
रूह मेरी मेरे झूठ दी भरे गवाही जी ,
मैनु झूठे नु जरा सच दा पाठ पढ़ाई जी,
श्रेणी