खाटू जाना तो बताना मुझे भी चलना है

खाटू जाना तो बताना मुझे भी चलना है
मेरे मालिक मेरे दाता से मुझको मिलना है

काम धंधे घर गृहस्थी में फंस गया हूँ मैं
मोह माया के दलदल में धंस गया हूँ मैं
ज़िन्दगी के सभी झमेलों से निकलना है

आना जाना मेरा खाटू में जबसे छूटा है
मेरा जीवन है निरर्थक जो बाबा रूठा है
थक चुका हूँ मैं लड़खड़ा के अब सम्भलना है

देश दुनिया में घूम आया मग़र सुकूँ न मिला
श्याम प्रेमी योंसा 'मोहित' कहीं जुनूँ न मिला
खाटू जा के मुझे गलियों में फिर टहलना है

Writer :- Mohit Sai (Ayodhya) 9044466616
download bhajan lyrics (105 downloads)