साडे सिर ते रेह्न्दी ऐ रेहमत सदा जोगिया तेरी

सानू अपने चरणी लाया तूं, साडा जग विच मान वधाया तूं,
असी जदों बुलाइये आ जावें, लावें न इक पल देरी,
साडे सिर ते रहंदी ऐ रेहमत सदा जोगिया तेरी,

1. अन्न धन दी घर विच थोड़ नहीं, मंगने दी पैंदी लोड़ नहीं,
   किसे गल द सानु फ़िक्र नहीं, असी लुट्दै मौज बथेरी,
   साडे सिर ते रहंदी ऐ...

2. तेरे जगराते करवाने आ, तेरे नाम दे लंगर लाने आ,
   तेरी घर-घर ज्योत जगाने आ, तूं पावें घर-घर फेरी,
   साडे सिर ते रहंदी ऐ...

3. तेरा लख-लख शुक्र मनाउँदै हाँ, ना सेवा तों घबरौंदे हाँ,
   "बिल्ला" "राजू" ऐ कैह्न्दे ने, ना करिये तेरी मेरी,
   साडे सिर ते रहंदी ऐ...

गायक- राजू उत्तम
लेखक- बिल्ला जण्डियाले वाला
http://rajuuttam.com
download bhajan lyrics (391 downloads)