मेरे कान्हा मुरली वाले बाबा नन्द के राज दुलारे

मेरे कान्हा मुरली वाले बाबा नन्द के राज दुलारे,
तू जब जब जब जब मुरली भजावे से,
तेरी बंसी की धुन दिल में आग लगावे से,

शाम सवेरे मैं तेरा दीदार करता हु,
जान से जयदा मैं कान्हा तन्ने प्यार करता हु,
मेरे दिल को के समजावे तेरी सूरत मन को भावे,
मैनु ढक ढक ढक दिल धड़कावे से,
तेरी बंसी की धुन दिल में आग लगावे से,

तेरी सवाली सूरत मोहन मेरे मन में वस्ती है,
कहंदा ये जमाना मैनु कान्हा तेरे नाम की मस्ती है,
कान्हा मुरली मधुर भजावे मेरे दिल का चैन चुरावे,
मैनु ढक ढक ढक दिल धड़कावे से,
तेरी बंसी की धुन दिल में आग लगावे से,
श्रेणी
download bhajan lyrics (22 downloads)