काछबा काछ्बी रि कथा

काछबो न काछबी रहता समंद में , लेता हरि रो नाम
भक्ति रे कारण बाहर आया , कीन्हा संतो ने प्रणाम
संतो रे शरणे पङिया जी , झटक झोळी में भरिया जी
कळप मत काछब कूङी ओ , सांवरिया री रीतां रूङी ओ
भक्ति रो भेद नी पायो जी , सांवरियो नेचे आयो जी

संत लेय हांडी में धरिया , तळे लगाई आग
केवे काछबी सुण रे काछबा , थांरे हरी  नें बताय
कठे थांरो सारंग प्राणी रे ,मौत री आ ही निशाणी रे
भक्ति रो भेद नी पायो जी , सांवरियो नेचे आयो जी

आडी जळूं मैं ऊबी जळूं रे , जळ गई जाळोजाळ
कदे नी आवे सांवरो थांरो , प्राण निकळ्यो  जाय
कठे थांरो मोहन प्राणी रे ,मीठोङी मुरली वाणी रे
कळप मत काछब कूङी ओ , सांवरिया री रीतां रूङी ओ

बळती होवे तो बैठ ज्या पीठ पर , राखूं थांरो प्राण
निंद्रा मत कर म्हारे नाथ री , राखूं थांरो प्राण
हरी म्हारो आसी वारूं रे , जीवों ने तारण वाळो रे
कळप मत काछब कूङी रे , सांवरिया री रीतां रूङी रे

काची नींद में सूतो सांवरो , मोङी सुणी रे पुकार
बळती अगन सूं तारिया जी , काछब नें किरतार
वाणी भोजो जी गावे रे , टीकम दा राय बतावे रे
लहरी मेहरा गाय सुणावे रे , चँचल भाई म्युजिक बजावे रे
कळप मत काछब कूङी रे , सांवरिया री रीतां रूङी रे
श्रेणी
download bhajan lyrics (29 downloads)