करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी

करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी,
जो गुरा दे चरनी लग जाये हो जाये मालामाल,
करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी,

सत्गुरुआ दे चरनी आके जिसने शीश झुकाया,
दुभड़ा उसदा बेडा सतगुरु पल विच पार लगाया,
सतगुरु मेरे सब दे प्यारे वनडन मावा नु लाल जी,
करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी,

लाल दयाल दे सब दी सुन्दा मेरी झोली खाली,
सिफ़्ता करदी सारी दुनिया तू ही जग दा वाली,
ताने मैनु मार दा रेह्न्दा एह सारा संसार,
करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी,

तेरी महिमा सुन के जोगी ध्यानपुर मैं आई,
विनती मेरी सुन ले दाता क्यों तू देर लगाई,
गोदी विच इक बालक देदो करदो जी उपकार,
करदे बेडा पार मेरा बावा लाल दयाल जी,