मेरी भांग में घोटा ला गोरा

मेरी भांग में घोटा ला गोरा आज भर भर लोटा पया गोरा,
मने क्यों जयादा तरसावे से मेरी मस्ती बढ़ ती जा रे से,

तेरी भांग का लाऊ न रगड़ा चाहे बेशक से कर ले झगड़ा,
क्यों कहा का रॉब जमावे से भोले तू मेरे गुसा ठा वे से,

मैं भंग बिना नहीं रह पाउ गोरा बार बार तने समजाउ,
मेरी सुन ले गोरा प्यारी भ्नगियां की कर दे तयारी,
आज भर भर लोटा पीला गोरा,
मेरी भांग में घोटा ला गोरा

भोले जब से तेरे व्याहा के आई ताने रात दिन भंग घुट वाई,
मेरी दुखे नरम कलाही तने देता नहीं दिखाई,
तू खामखा रॉब जमामे से भोले तू मेरे गुसा ठा वे से,

भोले ठीक नहीं करना झगड़ा मैं भंग पी के होजा तगड़ा,
करे भीम सैन सुन प्यार हो भांग में गुण बड़े भारी,
मने क्यों ज्यादा तरसावे से मेरी मस्ती बढ़ ती जावे से ,
श्रेणी
download bhajan lyrics (34 downloads)