भोले की कावड़ ल्यावे हरिद्वार से

बम बम बोल के चलो रे दिल खोल के,
भोले की कावड़ ल्यावे हरिद्वार से बुलावे भोला प्यार से,

मस्त महीना सावन भोले का आया भोले ने भगतो को दर पे भुलाया,
ये भंगियाँ घुटाके के मूड बना के,
भोले की कावड़ ल्यावे हरिद्वार से बुलावे भोला प्यार से,

हर कावड़ियाँ बम बम बोल रहा से,
भोले की मस्ती में दिल डोल रहा से,
ख़ुशी की वेला से भगतो का रेला से,
भोले की कावड़ ल्यावे हरिद्वार से बुलावे भोला प्यार से,

सुमित कवर भी हो गया भोले का दीवाना,
उमा शंकर गा गया जो गाना झूमे रहो बम बोला भांग का खा गोला,
भोले की कावड़ ल्यावे हरिद्वार से बुलावे भोला प्यार से,
श्रेणी
download bhajan lyrics (115 downloads)