जदो वज्दा मन नु भावे जोगी दा चिमटा

जदो वज्दा मन नु भावे जोगी दा चिमटा,

इस चिमटे दे रंग निराले बक्शया है शिव डमरू वाले,
एह सब नु मस्त बनावे  जोगी दा चिमटा,

इस चिमटे नु लगियाँ पत्तियां नीता जिह्ना भगता दियां सचियाँ,
ओह बेड़े बने लावे  जोगी दा चिमटा,

इस चिमटे नु लगैयन मेख़ा जंतर मंत्र भूत प्रेता,
एह पल विच दूर भजावे  जोगी दा चिमटा,

इस चिमटे नु पाये छल्ले उसदी हो गई बल्ले बल्ले,
तरसेम जेहड़ा गुण गावे, जोगी दा चिमटा,