मैं जदो दा शिरडी जाके मथा टेक लिया

मैं जदो दा शिरडी जाके मथा टेक लिया,
मैं सच्चे रब नु साई दे विच देख लिया,

मेरी रूह तेरे रंग विच रंगी दुनिया याद नहीं,
मेरे नैना दे विच तेरी सूरत खवाब नहीं,
मेरे मन को लालच लखा कोसो दूर गया,
मैं सच्चे रब नु साई दे विच देख लिया,

तेरे दर ते मैं फिर आवा गा हर इक साल साई,
मेरी झोली दे विच पा दो इक लाल साई.
सिर धरके तुहाड़े चरनी मथा टेक लिया,
मैं सच्चे रब नु साई दे विच देख लिया,

सारे भगता नु तू सी ला दिता है पार साई,
तू सी कर दिता है सब दा बेडा पार साई,
तुहाडी महिमा दा न हुन कोई भेद पेया
मैं सच्चे रब नु साई दे विच देख लिया,
श्रेणी
download bhajan lyrics (33 downloads)