नाम दी चाभी लाके खोल दे मन मंदिर दे द्वार माँ

अर्ज गुजारी आज माँ तेनु,
चरना दे विच रख ले मेनू ,

गुण औघन न देख माँ मेरे,
दर आया हां चल के तेरे ,
फौजल पार उतार माँ,
नाम दी चाभी लाके खोल दे मन मंदिर दे द्वार माँ,

विच गरीबी रुलेया हां माँ पर न तेनु भुलेया हां माँ,
पर न तेनु भुलेया हा माँ नाम दा रंग चदा दे मेनू सदा ध्याऊ दिल विच तेनु,
बन के तबेया तार माँ,
नाम दी चाभी लाके खोल दे मन मंदिर दे द्वार माँ,

तू दाती है सारे जग दी खाली झोली भरदी सब दी,
दे के दाता झोली भरदे जग ते नाम मेरा भी करदे ,
पापी पथर तार माँ,
नाम दी चाभी लाके खोल दे मन मंदिर दे द्वार माँ,

ज्योत जगा दे मन विच मेरे प्रीत भी चरनी लग गया तेरे,
मन मंदिर विच ला ले डेरे आलेवाली घर पावी फेरे करने दर्श दीदार माँ,
नाम दी चाभी लाके खोल दे मन मंदिर दे द्वार माँ,