वीर बली हनुमान का करता हूँ गुणगान

(तर्ज: देना हो तो दीजिये...)

वीर  बली  हनुमान  का  करता  हूँ  गुणगान ,
है  माँ  अंजनी  का  लाला , देवों  में  देव  महान

सिया  राम  के  सेवक  प्यारे  पवन  पुत्र  बजरंग  बली ,
वीरो  के  है  वीर  बली  और  देवों  में  है  महाबली ,
आफत  विपदा  छट  जावै , जो  धरता  इनका  ध्यान

लंकपुरी  में  जाके  हनुमत  सीता  की  सुध  लाए  थे ,
रातो  रात  उठा  पर्वत  लक्ष्मण  के  प्राण  बचाए  थे ,
रावण  की  लंक  जलाई , थे  वो  इतने  बलवान

केशरीनंदन  है  जगवंदन  भक्तों  के  हितकारी  है ,
जिसने  इनका  ध्यान  लगाया  मेटी  विपदा  सारी  है ,
जो  इनकी  शरण  में  जावैं , ये  कर  देते  कल्याण

राम  लखन  के  प्राण  बचाये  अहिरावण  को  मारा  था ,
सागर  लांघ  गए  लंका  में  वो  भी  अज़ब  नज़ारा  था ,
कहे  'देवकीनंदन'  वीर  बली , थारे  चरणों  में  प्रणाम


download bhajan lyrics (41 downloads)