सच्चे मन से गुरुवर का तुं ध्यान लगायेगा

(तर्ज: कन्हैया दौड़े आते है...)

सच्चे  मन  से  गुरुवर  का  तुं  ध्यान  लगायेगा
पार  तुं  खुद  को  पायेगा
                       
गुरु  हमारे  सच्चे  देवा ,
दुख  और  दर्द  है  सबके  खेवा ,
पल  दो  पल  कर  इनकी  सेवा ,
सुमिरण  से  तेरा  भाग  जगेगा , मौज  उड़ाएगा
                       
जीवन  का  सब  सार  गुरु  है ,
बहते  जल  कि  धार  गुरु  है ,
करते  नैया  पार  गुरु  है ,
हृदय  का  प्रकाश  गुरु  है , ज्योत  जगाएगा
                       
गुरु  कृपा  जब  भी  बरसावे ,
श्याम  शरण  तुमको  ले  जावे ,
मन  मन्दिर  में  ज्ञान  जगावे ,
भटके  को  रस्ता  मिल  जावे , जो  तुं  ध्याएगा
                       
मन  में  अपने  भाव  जगाले ,
आकर  के  गुरु  देव  मनाले ,
"देवकीनन्दन"  शीश  झुकाले ,
पल  दो  पल  का   ध्यान  लगाले , सब  मिल  जाएगा

download bhajan lyrics (19 downloads)