तू देंदी जा मायें

तू देंदी जा मायें, असीं मंगदे रहणा ऐं,
साडी नीयत भरनी नईं, असीं नां नईं कहणा ऐं,
तू देंदयां थक्कदी नईं, असीं मंगदयां थक्कणा नईं,
तू सुन सुन अक्कदी नईं, असीं कहना तों रुक्कणा नईं,
इस जीवन दा हर पल, ऐदां लंघदे रहणा ऐं,
तू देंदी जा.....

सानूं आदत पै गई ऐ, माँ तैथों मंगण दी,
माँ पुत्त दा नाता ऐ, फिर लोड़ की संगण दी
तेरे दर ते माँ पल्ला, असीं अड्डदे रहणा ऐं,
तू देंदी जा......

सानूं है यकीं माईये, खाली न तू मोडेंगी,
कासा साडी सदरां दा, तूं कदे न तोड़ेंगी
असीं तैथों लै लै के, मायें वंडदे रहणा ऐं,
तू देंदी जा......

असीं "दास" तेरे पक्के, तेरा ख़ैड़ा छड्डणा नईं,
कदे होर किसे दर ते, असीं पल्ला अड्डणा नईं,
फिर हक वी ते है साडा, तंग करदे रहणा ऐं,
तू देंदी जा.......

स्वर पुनीत खुराना
रचना अशोक शर्मा "दास"
download bhajan lyrics (52 downloads)