सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ

सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ,
है नाम नशा उसदा चडी नाम खुमारी है

है ज्योत इलाही ओ कण कण विच वास करे,
दे नूर निगाहा नु शीशा मन साफ़ करे,
एहदी चल ता हर पासे कुदरत ओहदी सारी है,
सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ,

दुनिया नु तारण ली हर युग विच आ जावे,
हर रंग ओहदा सोहना है भगता नु भाह जाये,
तस्वीर ओहदी वखरी हुंडी हर वारि है,
सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ,

गम तार गरीबा दा सिर छतर झुला देवे,
कर रहमत भगता ते तख्ता ते बिठा देवे,
एह रहबर सब दा है सारा जगत बिखारी है,
सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ,

की सिफत करा उसदी शब्दा विच आवे,
ना एह कमल बड़ी छोटी गुण लिख भी पावे न,
है पार वयानी तो ओहदी खेड न्यारी है,
सूरत मेरे साई दी सहनु लगदी प्यारी ऐ,
श्रेणी