मैनु सब कुछ मिलिया है शेरावाली दे दर तो

मैं क्यों इंकार करा ओह्दी रेहमत दे वर तो,
मैनु सब कुछ मिलिया है शेरावाली दे दर तो,

ओह्दी शक्ति दा डंका चो कुटी वजेया है,
बांह फड़ के दुखिया दी नरका चो कडया है,
मैं सद के जानी आ ओह दे सोहने दर तो,
मैनु सब कुछ मिलिया है शेरावाली दे घर तो,

एह मंदिर मैया दे स्वर्ग तो सोहने ने,
मैं कली नहीं केहन्दी हर मन नु मोह दे ने,
ताहियो नच्दे आउंदे आ जद आई दा घर तो,
मैनु सब कुछ मिलिया है शेरावाली दे दर तो,

मइयां ने महरा दा आज मीह बरसाया है,
सुख सारी दुनिया दा मेरी झोली पाया है,
लखा मकबूल हुये तर गे ढुंगे नेसर तो,
मैनु सब कुछ मिलिया है शेरावाली दे दर तो,
download bhajan lyrics (655 downloads)