नई मानत हे देवता

नई मानत हे देवता रिसयागे हावय भारी,
बम बम चिकि चिकि बाजा,
चिरतहे चांग राजा ॥
सबके होंगे सइता...॥

रन बन रन बन दउढ़त आवय,देवता दरस देवइया॥
बोमियावत किलकारत जोव्हर मारत हे घोंडईया॥
झुपत हे बइहा सही ।
मुड़ मा थोपे हे दही॥
पाके आय हावय नेवता...॥

कट किट कट किट दात ल कटरे,डर भूतहा कस लागे॥
परले बरोबर अउहा झउहा,येति वोती झागे॥
लिमवा के करे चानी॥
पढ़ के मंतर बानी ॥
सब होगे उदिम खाइता...॥

बमकत बंदन बुके माथ म,हुम, नरियर भेला धराये॥
हुम अगियारी देवाय बइगा,तभो ले नई हितियाये॥
अरजी म हावे भगति॥
धिरयागे परम सकती॥
गौतम ला रखबे सुरता...॥

प्रेषक  जय माँ चण्डी सेवा एवं भजन मंडली रायपुर
गायक- दिवेश साहू
संगीतकार -राहुल एवं शेखर
कोरस- शुभम,राजा ,नीरज
मंदार वादक- चतुर मानिकपुरी
रचनाकार: शेषनारायण गौतम गुरु जी
फ़ोन नो.8349797409



download bhajan lyrics (28 downloads)