सब ते महरा करदी मेरी मात जवाला है

ओ भगता कर न सोच विचारा जोड़ ले माँ नाल मन दियां तारा,
एथे झुक्दा है जग सारा एह दरबार निराला है,
सब ते महरा करदी मेरी मात जवाला है,

मिट जांदे दुःख सारे ऐसा अम्बे माँ दा द्वारा,
सब न मिलन मुरादा लगाया रेहमत दा भंडारा,
भूल जांदे गम खुशियां वाला खुल्दा ताला है,
सब ते महरा करदी मेरी मात जवाला है,

माँ दे दर ते रंग बरसदे हर पल रंग बिरंगे,
दाती दे रंग विच रंग के सब मंदे हो गये चंगे,
जो भी माँ दे रंग रंगया ओ भागा वाला है,
सब ते महरा करदी मेरी मात जवाला है,

आओ सारे रल मिल भगतो माँ नु आज मनाइये,
कर्म जीत जग्गी नाल अम्बे माँ दियां भेटा गाइये,
मस्ती दे विच पंकज भी होया मत वाला है,
सब ते महरा करदी मेरी मात जवाला है,