गेड़ा मार जा पंजाबियां दे वेडे वृंदावन रहन वालया

गेड़ा मार जा पंजाबियां दे वेडे वृंदावन रहन वालया
सानू रख चरणा दे नेड़े वृंदावन रहन वालया

असी नईयो मटकीयाा छिक्के यां ते टंग दे
खुला खाना-पीना भला सारेयां दा मंगदे
साडे दिल वडे वडे साड्डे जेड़े वृंदावन रहन वालेया
गेड़ा मार जा.....

छिल छिल गंदला ते साग बनावागे
मीठी मक्की लेया के टोडा मक्की दा पकावागे
खाकर भूल जाएगा मखना दे पेड़े वृंदावन रहन वालेया
गेड़ा मार जा.....

घर घर मंदिर ते घर घर पूजा ए
इको तेरा आसरा ना होर कोई दूजा ए
याद कर दे हां शाम सवेरे वृंदावन रहन वालेया

ला के निभाना ता पंजाबी ने जाणदे
कॉल निभाउंदे बड़े पक्के ने जुबान दे
ऐसी जींद जान लायी लेखे तेरे ओये वृन्दावन रहन वालेया
गेड़ा मार जा.....

थोड़ा जया समा काङ गेडा इक मार जा
बिगड़ी ए जे डी सारी जिंदगी सवार जा
दूर कर परेशानियां दे नेरे वृंदावन रहन वालेया
गेड़ा मार जा.......
download bhajan lyrics (121 downloads)