मैया दे नवरात्रे आ गए

सारे रल मिल बोलो जयकारे, के मैया दे नवरात्रे आ गए,
जय हो, मैया दे नवरात्रे आ गए।
चलो इकठे हो के मैया दे द्वारे, के मैया दे नवरात्रे आ गए,
जय हो, मैया दे नवरात्रे आ गए॥

तोड़ो तोड़ो नी गुलाब, चंबा, मडुआ, नी फुल्लां वाले हार गुन्दने।
साडे नालो वडभागी वो फुल हैं जिन्ना ने माँ दे पैर चूमने।
होण सारे गम दूर, होवे दिल भरपूर,
चलो भावना दे वेखीए नज़ारे जो संगतां दे मन भा गए॥

एक हाथ विच फड के माँ खंडा, माँ शेर दी सवारी करदी।
देवे सजा ओहो पापीया नु भारी, ते भगतां दे दुःख हरदी।
जा के मैया जी दे दर सीस चरना च धर,
ओहदे करते गुनाह माफ़ सारे जो मैया जी दे गुण गा गए॥

मेरी भोली माँ दे नेत्र सुनहरी ते सर उत्ते ताज सजदा।
लाल चुन्नी उत्ते गोटे दी किनारी, के बाणा किन्ना सोहना लगदा।
ओहदे करीए दीदार, जो है सच्ची सरकार,
लखां तर गए लखां ने तर जाना, जो मैया दा दीदार पा गए॥

देखो भावना दी शान निराली, के सोहने सोहने चन्डे झुल्दे।
योगी हो गया मैया दा तन मन तो, के भाग ओस दिन खुल्दे।
जोवी मांगना है मांगो, मैया रानी तो ना संगो,
देखो रेहमता दे डूंगे डूंगे सागरां च ‘करमा’ ते ‘नूर’ आ गए॥
download bhajan lyrics (549 downloads)