जीनु याद गुरा दी आवे ओहनू घर विच चैन ना आवे

जीनु याद गुरा दी आवे, ओहनू घर विच चैन ना आवे
ओ बंदा भज भज दर्शन पावे, ता समझो
गुरा दियां मेहरा ने, गुरा दियां मेहरा ने

जेहड़े कन्डेयां नू वी फुल समझ के आदे ने,
ओह सतगुरु जी दा प्यार सुहाना पांदे ने ।
जीनु प्यार गुरा दा आवे, ओहनू इक पल चैन ना आवे,
ओ बंदा भज भज दर्शन पावे, ता समझो,
गुरा दियां मेहरा ने...

मैं की की सिफ़तां करा तेरे दरबार दीयां,
तेरे दर ते संगता भव सागर तो तर दीयां ।
जेहड़ा नेह गुरां नाल लावे, ओह्दी कट चौरासी जावे,
ओ बंदा भज भज दर्शन पावे, ता समझो,
गुरा दियां मेहरा ने...

तेरे भगता नू फिर लौकी ताने देंदे ने,
तेरे भगत प्यारे ताने वी सह लैंदे ने ।
जेहड़ा गुरा दे दर ते आवे, मुँह मंगिया मुरादा पावे,
ओ बंदा भज भज दर्शन पावे, ता समझो,
गुरा दियां मेहरा ने...

जीनु चन्न ते सूरज आके शीश झुकानदे ने,
मेरे सतगुर भुलैया नू वी रस्ते पौंदे ने ।
जीनु ज्ञान गुरा दा आवे, ओह्दी कट चौरासी जावे,
ओ बंदा भज भज दर्शन पावे, ता समझो,
गुरा दियां मेहरा ने...
download bhajan lyrics (140 downloads)