बोल भगता जयकारा चिंतपूर्णी दा

हाथ बन मैया दे द्वार वाल जाई तू,
हंजूआ दे नाल हर दुखड़ा सुनाई तू.
वेखी फिर आमदा हुलारा चिंतपूर्णी दा
बोल भगता जयकारा चिंतपूर्णी दा

कितीयां गुलामीया बथेरे दुख जर लए,
मिट्टियां दे विच रूले मेरे हर तरले ।
अम्बे रानी मंदडे दी बाहं जदो फड लई,
विच असमानी मेरी गुड्डी ओदो चढ़ गई ।
दुखा वाली रुत फिर पलां विच झड गयी,
जन्नता दी खुशी मेरे वेडे आके वड़ गयी ।
खुशी विच लगेया भंडारा चिंतपूर्णी दा
बोल भगता...

मन दी मुराद दाती तेरे कोलो मंगनी,
नाम तेरे बिच दाती जिंदगी मैं रंगनी ।
भोली भाली अम्ब मुल्ल हंझुआ दा पाया ऐ,
गमा दे समुंदरा चौ हाथ दे बचाया ऐ ।
बुलंदीआ दा राह दाती आप तू वखाया ऐ,
छाणदा सी धुल दाती तखत बिठाया ऐ ।
जादो दा ऐ मिलेया सहारा चिंतपूर्णी दा
बोल भगता...

रुतबा ऐ मां दा उच्चा दसिया फकीरां ने,
खोल दे जो पलां विच्च बजीया लकीरा ने ।
जोगिया सुरेंद्र मां चरना दा दास ऐ,
पावेंगी तूं फैरा मैनू पका विश्वास ऐ ।
दर आऐ भगता दी हुनदी पुरी आस ऐ,
राहुल लिखारी कदे गया ना निराश ऐ ।
सब नालौ वडा ऐ द्वारा चिंतपूर्णी दा,
बोल भगता...
download bhajan lyrics (133 downloads)