मंगल मूरति मारुतनंदन जय हनुमान

मनोजवम मारुत तुल्य वेगम, जितेंद्रियम बुद्धिमतां वरिष्ठं
वातात्मजं वानारायूथ मुख्यम, श्रीराम दूतं शरणम प्रपद्धे ||

मंगल मूरति,  मारुतनंदन,  भक्तविभूषण जय हनुमान
सकल अमंगल, मूल निकंदन,  संकट मोचन जय हनुमान ||
(जय हनुमान  - जय हनुमान ) - २
(जय हनुमान -जय हनुमान,   जय हनुमान -जय हनुमान) - २

पवन तनय संतन हितकारी, ह्रदय बिराजत अवधविहारी
राम लखन सीता श्री चरण में,  भक्तविभूषण जय हनुमान ||
जय हनुमान ...

मातुपिता,  गुरु,  गनपति,  सारद,  सिवा समेत संभु सुख नारद
राम लखन सीता श्री चरण में,  भक्तविभूषण जय हनुमान ||
जय हनुमान ...

चरन बंदी बिनबौ सब काहूँ, देहु रामपद नेह निबाहूं
राम लखन सीता श्री चरण में,  भक्तविभूषण जय हनुमान ||
जय हनुमान ...

बंदौ राम लखन बैदेही, जे तुलसी के परम सनेही
राम लखन सीता श्री चरण में,  भक्तविभूषण जय हनुमान ||
जय हनुमान ...

गीत  : संत तुलसी दास
संगीत : अरुण सराफ
download bhajan lyrics (368 downloads)